Ke, Har Har Mahadev, Mahadev Images, Devon Ke Dev Mahadev

0

Ke, Har Har Mahadev, Mahadev Images, Devon Ke Dev Mahadev

।।ॐ,  ओम नम: शिवाय। ‘ओम’ प्रथम नाम परमात्मा का फिर ‘नमन’ शिव को करते हैं।  , Ke, Har Har Mahadev, Mahadev Images, Devon Ke Dev Mahadev ‘सत्यम, शिवम और सुंदरम’ जो सत्य है वह परम ब्रह्म है –  ब्रह्म अर्थात परमात्मा। जो शिव है वह परम शुभ और पवित्र आत्म तत्व है और जो सुंदरम है वही परम प्रकृति है। अर्थात परमात्मा, शिव और पार्वती के अलावा कुछ भी जानने योग्य नहीं है। इन्हें जानना  हिन्दुओं के लिए ज़रूरी है और इन्हीं में लीन हो जाने का मार्ग है-हिंदुत्व।

शिव अनादि, आदि, मध्य और अनंत अंत है। शिव ही है प्रथम और शिव ही है अंतिम। शिव है सनातन धर्म का परम कारण और कार्यहै की  शिव धर्म की जड़ को जाने और समझे । शिव से ही चारो धर्म हैं – धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष है।Ke, , Mahadev Images, Devon Ke Dev Mahadev,  Wallpaper 2021, सभी जगत शिव की ही शरण में है, जो शिव के प्रति शरणागत नहीं है वह प्राणी दुख के गहरे गर्त में डूबता जाता है ऐसा पुराण कहते हैं। जाने-अनजाने शिव का अपमान करने वाले को प्रकृ‍ति कभी क्षमा नहीं करती है।

devon ke dev mahadev

devon ke dev mahadev

devon ke dev mahadev

devon ke dev mahadev

har har mahadev

har har mahadev

 

har har mahadev

 शिव यक्ष के रूप को भी धारण करते हैं और लंबी-लंबी भव्य और खूबसूरत जिनकी जटाएं हैं, जिनके हाथ में ‘पिनाक’ नाम का धनुष है, जो सत् स्वरूप हैं अर्थात् खुद सनातन हैं, ओम के स्वरुप एवं  दिव्यगुणसम्पन्न उज्जवलस्वरूप होते हुए भी जो दिगम्बर हैं। जो शिव नागराज स्वरुप वासुकि का हार पहिने हुए हैं, अर्धनग्न शरीर पर राख या भभूत मले हुए , जटाधारी, गले में रुद्राक्ष और सर्प लपेटे, तांडव नृत्य करते हैं तथा नंदी जिनके साथ रहता है। उनकी भृकुटि के मध्य में तीसरा नेत्र विराजमान है। वे सदा शांत और ध्यानमग्न रहते हैं।
Ke, Har Har Mahadev, Mahadev Images, Devon Ke Dev Mahadev
कुछ विद्वानों का ऐसा मानना है कि शिव पुराण अनुसार शिव के माता-पिता सदाशिव और दुर्गा है। ब्रह्म (परमेश्वर) से सदाशिव, सदाशिव से दुर्गा। ‍‍सदाशिव-दुर्गा से विष्णु, ब्रह्मा, रुद्र और महेश्वर महादेव  की उत्पत्ति हुई। रुद्र शिव का सदाशिव रूप होने के कारण वे शिव कहलाए।

mahadev images

 

har har mahadev

har har mahadev

 

har har mahadev

har har mahadev

 

har har mahadev

devon ke dev mahadev

 

devon ke dev mahadev

devon ke dev mahadev

devon ke dev mahadev

 

devon ke dev mahadev

शिवपुराण के अनुसार एक बार ब्रह्मा और विष्‍णु दोनों में सर्वोच्चता को लेकर लड़ाई हो गई उन्होंने कहा मैं बड़ा हूँ और दुसरे ने कहा मैं बड़ा हूँ , तो बीच में कालरूपी एक स्तंभ (खम्बा ) आकर खड़ा हो गया। तब दोनों ने पूछा- ‘प्रभो, सृष्टि के  5 कर्तव्यों के लक्षण क्या हैं? यह हम दोनों को बताइए।’
shiv Wallpaper 2021, Latest bholenath Photo, Best shivji  Pic
Ke, Har Har Mahadev, Mahadev Images, Devon Ke Dev Mahadev
तब ज्योतिर्लिंग रूप काल ने कहा- ‘पुत्रो, ध्यान से सुनो तुम दोनों ने तपस्या करके मुझसे सृष्टि (जन्म) और स्थिति (पालन) नामक दो कृत्य प्राप्त किए हैं। इसी प्रकार मेरे विभूतिस्वरूप रुद्र और महेश्वर ने दो अन्य उत्तम कृत्य संहार (विनाश) और तिरोभाव (अकृत्य) मुझसे प्राप्त किए हैं, परंतु अनुग्रह (कृपा करना) नामक दूसरा कोई कृत्य पा नहीं सकता। रुद्र और महेश्वर दोनों ही अपने कृत्य को भूले नहीं हैं इसलिए मैंने उनके लिए अपनी समानता प्रदान की है।’ सदाशिव कहते हैं- ‘ये (रुद्र और महेश) मेरे जैसे ही वाहन रखते हैं, मेरे जैसा ही वेश धरते हैं और मेरे जैसे ही इनके पास हथियार हैं। वे रूप, वेश, वाहन, आसन और कृत्य में मेरे ही समान हैं।’
See Some More –  Lord shiva pics

Leave A Reply

Your email address will not be published.