50+Mast Shayari, Shayari On Eyes, Quotes On Eyes, Status On Eyes

118

50 + Mast Shayari, Shayari On Eyes, Quotes On Eyes, Status On Eyes

Eyes are not just a part of our body but can contain thousands of dreams in us, mast Shayari, such a treasure. We have a part through which we can tell our lover without speaking our heart. quotes on eyes, status on eyes,  tareef Shayari, Lover people mostly talk with their eyes.  And I also like the poetry written in the eyes. here we provide you a huge collection of mast shayari, shayari on eyes and quotes on eyes, status on eyes, tareef shayari. you can share with your friends whom you love the most in this world.

Sad Love Status In Hindi

shayari on eyes

Jb bhi mila kro hmse

nazrein milaa liyaa kro naa

 hmko pasand hai apne aap ko

aapki aankho mein dekhna

जब भी मिला करो हमसे 

नज़रे मिला लिया करो ना 

हमको पसंद है अपने आप को 

आपकी आँखों में देखना 

 neend ko bhi shikaayat ho gai hai

ab to meri aankho se

 kyuki maine aane naa diya

usko teri yaad se phle

नींद को भी शिकायत हो गई है 

अब तो मेरी आँखों से 

क्युकी मैंने आने ना दिया 

उसको तेरी याद से पहले 

shayari on eyes

लव शायरी ,   tareef shayari

 kai log aankho se baate kr lete hain

kai log aankho se mulaaquaate kr lete hain

bdaaa mushkil hota hai jawaab dena jb

saamne khde hokr vo sawaal kr lete hain

कई लोग आँखों से बाते कर लेते हैं 

कई लोग आँखों से मुलाकाते कर लेते हैं 

बड़ा मुश्किल होता है जवाब देना जब 

सामने खड़े होकर वो सवाल कर लेते हैं 

kaid ho gaye hm bina salaakhon ke 

kuch aise kisse hain tumhari aankho ke 

कैद हो गए हम बिना सलाखों के 

कुछ ऐसे किससे हैं तुम्हारी आँखों के 

nigaahon se hi kar do katal kyaa zaroorat hai auzaaron ki 

na tumko takleef hogi na mujhko zaroorat gardan jhukaane ki 

निगाहों से ही कर दो कतल क्या ज़रुरत है औजारों की 

न तुमको ही तकलीफ होगी न मुझको ज़रूरत गर्दन झुकाने की 

Mast Shayari, Quotes On eyes, status on eyes, tareef shayari

pyaar mein shabdon ko nahi dekha jata 

mohabbat mein aawaaz dene kaa intzaar nahi hota 

aankhe hi bol deti hain dil ki sabhi baate 

lafzon ke nikalne kaa intzaar nahi hota 

प्यार में शब्दों को नहीं देखा जाता 

मोहब्बत में आवाज़ देने का इंतज़ार नहीं होता 

आँखे ही बोल देती है दिल की सभी बातें 

लफ़्ज़ों के निकलने का इंतज़ार नहीं होता 

shayari on eyes

jitni bhi baar dekhu utni hi baar doob jata hai 

pata nahi teri aankhon mein dariya hai ya samundar koi 

जितनी भी बार देखू उतनी ही बार डूब जाता है 

पता नहीं तेरी आँखों में दरिया है या समुन्दर कोई 

socha tha hontho se nahi karenge bayaan kabhi bhi ishq apna 

magar in aankho ne raaj ko raaj naa rahne diyaa 

सोचा था होठों से नहीं करेंगे बयान कभी भी इश्क अपना 

मगर आँखों ने इस राज को राज ना रहने दिया 

mohabbat mein aankho se hi paigaam diya hmne 

unki aankho se hi mohabbat kaa jaam piya hmne 

मोहब्बत में आँखों से ही पैगाम दिया हमने

उनकी आँखों से ही मोहब्बत का जाम पिया हमने 

tum bhi meri trha tanhaa ho maloom hai mujhko 

meri yaad tumko bhi aati hai maloom hai mujhko 

mat poocho ki kaise maloom hai ye sab mujhko 

aapki aankhe padhni aati hain mujhko 

तुम भी मेरी तरह तनहा हो मालूम है मुझको 

मेरी याद तुमको भी आती है मालूम है मुझको 

मत पूछो की कैसे मालूम है ये सब मुझको 

आपकी आँखे पढनी आती है मुझको 

Mast Shayari, Quotes On eyes, status on eyes, tareef shayari

MAST SHAYARI

jo mohabbat teri aankho se jhalakti hai 

vo meri shayari ke lafzon mein kahan 

जो मोहब्बत तेरी आँखों से झलकती है 

वो मेरी शायरी के लफ़्ज़ों में कहाँ 

aankho mein doobkar sirf ek tera hona hai 

tu dhoondh lena mujhko kyonki 

mujhko sirf tere ishq mein khona hai 

आँखों में डूबकर सिर्फ एक तेरा होना है 

तू ढूंढ लेना मुझको क्योंकि 

मुझको सिर्फ तेरे इश्क में खोना है 

mast shayari

teri aankhe jadoo kar sakti hain kyaa ye jaante ho tum 

masoom si mohabbat hai aapki or tere jadoo mein gum gaye hm 

तेरी आँखे जादू कर सकती है क्या ये जानते हो तुम 

मासूम सी मोहब्बत है आपकी और तेरे जादू में गुम गए हम 

milne aate the jb tum har roj hmse 

har roj nigaahe milti thi har roj kayamat hoti thi 

मिलने आते थे जब तुम हर रोज हमसे 

हर रोज निगाहें मिलती थी हर रोज क़यामत होती थी 

mast shayari

teri aankhon mein yoon to sara jahan dekha maine 

magar sch kahu to sirf khud ko nahi dekha maine 

तेरी आँखों में यूं तो सारा जहाँ देखा मैंने 

मगर सच कहू तो सिर्फ खुद को नहीं देखा मैंने 

neend se uthte hi tumhari nasheeli aankhe 

kaise kahu tumse ki bolti hain tumhari aankhe 

नींद से उठते ही तुम्हारी नशीली आँखे 

कैसे कहू की बोलती हैं तुम्हारी आँखे 

hmari aankho mein dekh kar jaan lo kitni mohabbat hai tumse 

shabdon ke to tum hazaaron matlab nikaal lete ho naa 

हमारी आँखों में देख कर जान लो कितनी मोहब्बत है तुमसे 

शब्दों के तो तुम हज़ारों मतलब निकाल लेते हो ना 

teri nasheeli aankhe hai to dr lagta hai kabhi kabhi 

kahi tum aankho se pilaa kar hi loot naa lo hmko

तेरी नशीली आँखें है तो डर लगता है कभी कभी 

कही तुम आँखों से पिला कर ही लूट ना लो हमको 

teri nigaah utar gai mere jigar k andar tak 

jaise hi aankho se aankhe milaa kar dekha toone 

तेरी निगाह उतर गई मेरे जिगर के अन्दर तक 

जैसे ही आँखों से आँखे मिला कर देखा तूने 

saagar se bhi jyaada gehraai

rkhti hain aapki nazrein 

khoobsoorat hai husn to 

jaise jaam hai aapki nazre 

le lengi hmaari jaan ek din

aapki ye bekasoor nazre 

सागर से भी ज्यादा गहराई 

रखती हैं आपकी नज़रें 

खूबसूरत है हुस्न तो 

जैसे जाम है आपकी नज़रे 

ले लेंगी हमारी जान एक दिन 

आपकी ये बेक़सूर नज़रे 

jb bhi ektak dekhna chaha 

usne churaa li hmse nazre 

uski aankho ko hmne 

kaagaz par bhi banaa kar dekha hai 

जब भी एकटक देखना चाहा 

उसने चुरा ली हमसे नज़रे 

उसकी आँखों को हमने 

कागज़ पर भी बना कर देखा है 

ek umar beet gai magar

jawaab naa de sake hm 

usne sawaal hi ek nazar mein 

itne saare kiye the 

एक उम्र बीत गई मगर 

जवाब ना दे सके हम 

उसने सवाल ही एक नज़र में 

इतने सारे किये थे 

shayari on eyes

bas ek mohabbat bhari nazar aapki 

aap nhi jaanti kyaa kamaal kar sakti hain 

बस एक मोहब्बत भरी नज़र आपकी 

आप नहीं जानती क्या कमाल कर सकती है 

ishq ki shuruaat aksar aankho se hi hoti hai 

aankhe bol nahi sakti magar

poori trha bejubaan bhi to nahi

इश्क की शुरुआत अक्सर आँखों से होती है 

आँखे बोल नहीं सकती मगर 

पूरी तरह बेजुबान भी तो नहीं 

shayari on eyes

kisi ki aankho mein aankhe daalkar

mat dekhna aap hmare siwa 

kahi koi aapki mohabbat me 

aapke aakr lipat naa jaye hmare siwa 

किसी की आँखों में आँखे डालकर 

मत देखना आप हमारे सिवा 

कही कोई आपकी मोहब्बत में 

आपसे आकर लिपट ना जाए हमारे सिवा 

uski aankhe hain bilkul sharaab jaisi 

or mujhse kahti hai ki peena buri baat hai 

 उसकी आँखे हैं बिलकुल शराब जैसी 

और मुझसे कहती है की पीना बुरी बात है 

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.